जमीन या घर की रजिस्ट्री कैसे कराये

जमीन या घर की रजिस्ट्री कैसे कराये

SHARE

एक अच्छा हाउस (House) यानि घर खरीदना हर किसी का सपना होता है कुछ लोग जमीन खरीद कर घर बनाते है तो कुछ लोग बना बनाया घर या फ्लैट (Flat) लेते है तो इसके लिए कुछ लोग होम लोन (Home Loan) लेते है तो कुछ लोग अपने बचाए हुए पैसे से घर या जमीन खरीदते है लेकिन घर या जमीन या कहे मकान खरीदने के बाद सबसे बड़ी दिक्कत है ये होती है की अपने ख़रीदे हुए घर जमीन को अपने नाम कैसे कराये ? क्यों की अगर आप कुछ गलती करते हो इन जमीन यानि प्रॉपर्टी रजिस्ट्री (Property Registry) में तो आपको कोई भी आसानी से बेवकूफ बनके ठग सकता है तो ऐसे में आपको पता होना चाहिए की अपनी प्रॉपर्टी रजिस्टर कैसे करे ? (How to register property information in hindiहाउ टू रजिस्टर प्रॉपर्टी , प्लाट फ्लैट इनफार्मेशन इन हिंदी, तो इस आर्टिकल में आपको अपने जमीन , मकान या घर की रजिस्ट्री कैसे होती है ? पूरी जानकारी दी जाएगी इसके साथ ही आपको बताया जायेगा  घर की रजिस्ट्री (Registry) के लिए क्या क्या नियम कानून है ? और आपको क्या क्या बाते पता होनी चाहिए एक घर या जमीन को खरीदते वक्त और अपने नाम करने के लिए.

अगर आपको अपना प्रॉपर्टी घर , मकान को अपने नाम पर करना है तो इसके लिए भारत (india) में कुछ नियम यानि कानून होते है जो आपको पता होना चाहिए जब तक आपके पास घर के सरे दस्तावेज यानि डाक्यूमेंट्स (Documents) नहीं होंगे तब तक आपके जो भी प्रॉपर्टी खरीदी है वो आपने नाम पर नहीं होता है तो यहाँ पर घर (House) , जमीन (Plot) , खरीदते वक्त आपको कुछ जरुरी बाते और नियम का ध्यान रखना बेहद जरुर आइये जान लेते है की ये जरुरी बाते कोंसी है प्रॉपर्टी रजिस्टर (Property Register) को लेके उसके बाद स्टेप बाई स्टेप जानेंगे की जमीन या घर की रजिस्ट्री कैसे कराये (How to register property , plot , flat information in hindi) हाउ टू रजिस्टर प्रॉपर्टी , प्लाट फ्लैट इनफार्मेशन इन हिंदी , घर की रजिस्ट्री की पूरी जानकारी

जमीन या घर खरीदते वक्त ध्यान में रखे ये जरुरी बाते | प्लाट खरीदते वक्त किन बातो का ध्यान रखना चाहिए

1. घर किसके नाम पर है ? : जब भी आप किसी भी प्रॉपर्टी डीलर (Property Dealer) से   या   फिर किसी जानने से वाले से जमीन घर या प्लाट खरीदते है तो आपको सबसे पहले प्रॉपर्टी किसके नाम पर है इसका असल मालिक कोन है ये सब जानने बेहद जरुरी है तो इसके लिए आप घर के असली कागजात को देख सकते है इसके अलावा आपको ये भी ध्यान में रखना है की कही इस जमीन या मकान का कोई लफड़ा , कोर्ट केस (Court Case) तो नहीं चल रहा है अगर कुछ दिक्कत हो समझ में न आये तो किसी वकील का सहारा ले सकते है

2. कंपनी और प्रॉपर्टी डीलर के बारे में अच्छे जाने : अगर आप कोई प्रॉपर्टी खरीदते हो तो ऐसे में आप जिस भी कंपनी या डीलर से जमीन या घर खरीद रहे है उसके बैकग्राउंड चेक करे की उसने अभी तक कितने घर जमीन प्लाट बैचे है इससे क्या होगा उसके बारे में आपको अच्छे से   पता चल जायेगा जाने माने कंपनी या प्रॉपर्टी डीलर से जमीन जायेदाद खरीदना चाहिए धोखादाड़ी का खतरा कम होता है

3. विज्ञापनों से सावधान रहे : आज के समय में इन्टरनेट में कई सरे लोग अपने प्रॉपर्टी जैसे की जमीन , घर (House Sell) बेचने के लिए ऑनलाइन परचार (Advertisement) करवाते है तो कुछ लोग गलत और झूटे परचार करवाके आपके लालच देते है की आपको इतने में जमीन या बना बनाया 2bhk flat या 3bhk flat मिल जायेगा तो वो आपको काफी सस्ते दामो में घर देने का वादा करते है साथ में बैंक लोन (Bank Loan) फैसिलिटी की प्रोवाइड करते है तो इन सब चीजों से आपको सावधान रहना ही बेहतर होगा.

4. मार्केट में प्रॉपर्टी का भाव पता करे : कई लोग प्रॉपर्टी खरीदते वक्त मार्किट में भाव यानि कीमत चेक नहीं करते ही अभी फ़िलहाल में जो भी चीज़ आप खरीद रहे है यानि प्रॉपर्टी बाई (Property Buy) कर रहे है उसका भाव क्या चल रहा है इससे आपके पैसे बचेंगे वरना कोई भी आपको सस्ती प्रॉपर्टी देके आपसे पैसे ज्यादा ले सकता है इसका अलावा जगह के हिसाब से भी प्रॉपर्टी की कीमत होती है.

5. पहले से पूरी चीज़े डीलर से क्लियर करे : कई बार ऐसा हो जाता है की फ्लैट या घर लेने के बाद आपको बाद में कहा जाता है की आपको इस चीज़ इतने पैसे देने है , पार्किंग का हर महिना खर्चा देना होगा , प्रॉपर्टी पर टैक्स लगा देना और भी कई चीज़े है जो घर की रजिस्ट्री करने के बाद आपसे वसूलते है तो सुरु में ही प्रॉपर्टी लेने से पहले उससे सारी बाते क्लियर करले और हो सके लिखित में ले.

6. नियम कानून के बारे में जानकारी न होने : सायद आप नहीं जानते होंगे कुछ सिटी यानि शहर के घर की रजिस्ट्री या फिर प्लाट की रजिस्ट्री (Plot Registryके लॉ(Law) यानि नियम अलग अलग होते है तो जमीन घर खरीदने से पहले नियम कानून की जानकारी लेले या फिर ज्यादातर लोग वकील (Advocate) की मदद लेते है तो आपको ले सकते है लेकिन फिर भी आपको अपनी तरफ से थोडा बहोत नियम कानून पता होना चाहिए घर की रजिस्ट्री को लेके आपके लिए अच्छा होगा.

7. बिजिली पानी का बिल भरा है यानि : घर खरीदते वक्त कई बार लोग भूल जाते है पानी का बिल या फिर बिजली बिल (Electricity Bill) क्यों कई बार ऐसा हो जाता है की इससे पहले जिसका ये घर या प्रॉपर्टी था उन्होंने बिल नहीं भरा होता तो ऐसे में आपको वो सारा पानी का बिल , बिजली का बिल भरना पड़ सकता है एक बार घर की रजिस्ट्री करने के बाद इसलिए पहले ही ये सब पता करले.

तो कुछ जरुरी बाते है अगर आप घर या जमीन खरीदते है और पैसे और घर की रजिस्ट्री करने से पहले से सब बाते अच्छे से आपको पता होना चाहिए वरना आप धोखादडी के सिकार हो सकते है तो चलिए अब जानते है की जमीन या घर की रजिस्ट्री कैसे करे (A Step-By-Step Guide To Registering Your Property in hindi) हाउ टू रजिस्टर प्रॉपर्टी इनफार्मेशन इन हिंदी

घर की रजिस्ट्री
Pic : Pixabay

जमीन या घर की रजिस्ट्री कैसे कराये | प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन की पूरी प्रक्रिया

 1. अपने प्रॉपर्टी की वैल्यू निकाले मार्किट के हिसाब से 

प्रॉपर्टी खरीदने या घर की रजिस्ट्री करवाने से पहले आपको प्रॉपर्टी यानि जो भी आपने फ्लैट (Flat) , जमीन , या फिर मकान लिया है उस प्रॉपर्टी की मार्किट वैल्यू निकाले की फ़िलहाल इसकी कीमत क्या है इस एरिया में इसके अलावा उस एरिया में सरकारी जमीन का भी कीमत जान ले अच्छा होगा.

ऐसा इसलिए क्यों की आपको प्रॉपर्टी रजिस्ट्री (Property Register) करवाने के लिए स्टाम्प ड्यूटी (Stamp duty) पेपर बनाना होता है अब सवाल आता ही की ये स्टेम्प ड्यूटी क्या है ? (What is Stamp Duty in hindi) व्हाट इस स्टाम्प ड्यूटी इन हिंदी तो आसान भासा में कहे तो एक तरह का टैक्स होता है जो जमीन प्रॉपर्टी घर मकान खरीदने पे लगाया जाता है जब आप कोई प्रॉपर्टी हो और उस जमीन को ट्रान्सफर या फिर अपने नाम रजिस्टर या फिर कहे पंजीकरण करवाते हो तो इससे पहले आपको स्टाम्प ड्यूटी बनाना पड़ता है जिसके लिए आपको कुछ पैसे देने होते है सरकार को तभी जमीन की रजिस्ट्री करवा सकते हो.

 2. अब स्टाम्प ड्यूटी पेपर ख़रीदे

इन सभी चीजों के बाद अब आपको नॉन जुडिशल स्टाम्प ड्यूटी (Stamp Duty) पेपर खरीदना होगा इस पेपर को खरीदने के लिए आपको कोर्ट में जाना होगा और आप वह से आसानी से खरीद सकते है  तो यहाँ पर आपको स्टाम्प ड्यूटी की राशी स्टेट के हिसाब से से होगी हर स्टेट में ये राशी अलग अलग होगी.

तो एक उदहारण से समझते है है मान लोगो आपको घर की कीमत 20 लाख रूपये है और ये फ़िलहाल वहा के एरिया की है और इस माकन की कीमत सरकारी हिसाब से 22 लाख है तो आपको स्टाम्प ड्यूटी 22 लाख के हिसाब से बनाना होगा जो कीमत ज्यादा होगी उसी रेट के हिसाब से स्टाम्प ड्यूटी बनाया जायेगा

आप चाहे तो इन स्टाम्प ड्यूटी पेपर को आप चाहे तो लाइसेंस वाले सेल्लर यानि विक्रेताओं से खरीद सकते है  या फिर आप चाहे तो ऑनलाइन  भी इस पेपर को खरीद सकते है इसके लिए आप www.shcilestamp.com साईट पे जा सके है

 3. अब जमीन या प्लाट के बेचने और ख़रीदे के कागज बनवाए

इन सभी चीजों के बाद अब आपको जमीन बेचने वाला कागज बनवाना होगा कोर्ट से इसमें जो भी ओनर अपनी जमीन , घर या प्लाट बेच रहा है उसे इस कागज में अच्छे से लिख करदेना होगा की मेने ये जमीन या घर इसके नाम कर दिया है अब इसका मालिक ये है में इसे प्रॉपर्टी इतने में बेच दी है इत्यादि तो ये सब एक बारे अच्छे से चेक करले.

 4. अब सब रजिस्ट्रार के पास जाये घर की रजिस्ट्री के लिए

ये सभी काम करने के बाद आप आपको इन सारे डाक्यूमेंट्स को सब रजिस्ट्रार के पास ले जाये और वह भी जमीन या घर की रजिस्ट्री करवाए  तो इसके लिए आपको दोनों को जो जमीन बेच रहा है और जो खरीद रहा है दोनों को साथ में आना होगा इसके साथ दो और गवाह होने चाहिए साथ में उनके पास उनका पहचान पत्र , आधार कार्ड इत्यादि जैसे डाक्यूमेंट्स होने चाहिए इसके अलावा डाक्यूमेंट्स सबमिट करते वक्त आपको एक रसीद मिलेगा वो रसीद संभाल के रखे.

 5. अब कुछ दिनों बाद रजिस्ट्री डॉक्यूमेंट कलेक्ट करे

जैसे ही आप ये सारे स्टेप्स फॉलो करलेते हो उसके बाद अब आपको ये सारे डाक्यूमेंट्स वेरीफाई होंगे यानि चेक होने की कही डाक्यूमेंट्स फेक तो नहीं , सरे डाक्यूमेंट्स सही होने पर आपके डाक्यूमेंट्स जमा करदिये जायेंगे उसके बाद आके रजिस्ट्रार ऑफिस से घर की रजिस्ट्री के डाक्यूमेंट्स ले सकते है जो आपके नाम पर होगा.

तो इस तरह आप अपने प्लाट मकान या घर की रजिस्ट्री करवा सकते है लेकिन यहाँ पर आपको इन सभी चीजों के लिए एक वकील की मदद लेनी चाहिए इन सभी चीजों के लिए आपको एक वकील ही अच्छे से गाइड कर सकते है तो घर , जमीन की रजिस्ट्री करवानी हो तो वकील की मदद जरुर लेनी चाहिए

NO COMMENTS